दीवाली बाद आना था छुट्टीन लेकिन आई शहादत की खबर

कुरुक्षेत्र। जम्मू-कश्मीर भारतीय सीमा पर पाक की कार्रवाई का जवाब देते हुए भारतीय सेना के 17-सिख रेजीमेंट के जवान मनदीप की शहादत की खबर से पूरे गांव में मातम फैल गया। जिले के गांव अंटेली के मनदीप सिंह को दीवाली पर अपने मकान के मुहुर्त पर छुट्टी पर आना था, लेकिन उसके पहले ही उनका शहादत की खबर आई।

शहादत की सूचना मिलते ही उपायुक्त सुमेधा कटारिया ने गांव पहुंचकर परिजनों को ढांढस बंधाया और शहीद को नमन किया। मनदीप सिंह करीब छह महीने पहले छुट्टी बिता कर वापस मोर्चे पर गए थे। उन्हें छुट्टी में घर आना था, लेकिन सरहद पर तनाव के चलते उसकी छुट्टियां रद हो गई और अब उन्हें दीपावली पर घर आना था।

सरकार बेटे की शहादत का ले बदला

महज 30 वर्ष की उम्र में देश पर कुर्बानी से मनदीप कर हर कोई गर्व कर रहा है। मगर, दीवाली पर उसकी शहादत ने सबको हिलाकर रख दिया है। मनदीप की पत्नी प्रेरणा शाहाबाद महिला पुलिस थाने में कार्यरत हैं। दो भाइयों में मनदीप छोटा था। बड़ा भाई संदीप अविवाहित है। परिजन इस दुखद समाचार से सदमे में हैं।

मनदीप के पिता फूल सिंह ने कहा कि सरकार को चाहिए कि उसके बेटे की शहादत का मुंहतोड़ जवाब दे।उपायुक्त सुमेधा कटारिया ने परिजनों को आश्वासन दिया कि जिला प्रशासन इस दुख की घड़ी में उनके साथ है।

देश की रक्षा करते हुए मनदीप शहीद हुआ है, उसकी शहादत पर सभी को नमन करना चाहिए।

शहीद के चचेरे भाई विजय कुमार ने बताया कि कुपवाड़ा में अधिकारियों के साथ संपर्क नहीं हो पा रहा है। अधिकारियों से बात होने के बाद ही पता चलेगा कि मनदीप का दिवंगत शव कब तक आएगा। रात 12 बजे के बाद चंडीगढ़ से तीन अधिकारी आए थे उन्होंने बताया था की मनदीप सिंह शहीद हो गए हैं।

Check Also

गूगल सीईओ सुंदर पिचाई पद्म भूषण से किए गए सम्मानित

गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई पद्म भूषण पुरस्कार से किए गए सम्मानित, कहा-: जहां जाता …