विपक्ष के हंगामे के भेंट चढ़ रहा सत्र, नेताओं ने दिए आपत्तिजनक बयान

बिहार- विधान परिषद का शीतकालीन सत्र हंगामे के भेंट चढ़ गया. छह दिनों के सत्र में एक भी प्रश्न का जवाब नहीं हुआ.

भाजपा विधानमंडल दल के नेता सुशील मोदी ने कहा कि शीतकालीन सत्र में पहली बार ऐसा हुआ कि एक भी प्रश्न का उत्तर नहीं हुआ. सत्ता पक्ष और विपक्ष के हंगामे के भेंट चढ़े सत्र में जमकर एक दूसरे पर आरोप मढ़े गये. नेताओं ने आपत्तिजsushil-modiनक बयान भी दिये.

राबड़ी देवी के इस मांग पर की सुशील मोदी माफी मांगे मोदी ने कहा कि लालू यादव घोटालों के सरदार हैं. मैं क्यू मांफी मांगू मौका मिलेगा तो और एक्सपोज करुंगा. मोदी ने कहा कि सीएम की लाचारगी दिखी जब उनकी मौजूदगी में राजद के सदस्य वेल में पहुंच नारेबाजी करते रहे .

उधर, राबड़ी देवी ने कहा कि सदन में गाली दे रहे हैं तो माफी भी मांगना पड़ेगा. राबड़ी देवी ने नोट बंदी को लेकर पीएम पर निशाना साधते हुए कहीं कि पनेरी भी पूछकर चूना लगाता है लेकिन पीएम तो बिना पूछ ही सबको चूना लगा दिये. कांग्रेस और जदयू के नेता भी अपने अपने तरह से विपक्ष पर आरोप मढ़ने की कोशिश की.

हालांकि हंगामे के बीच सरकार के जरुरी काम काज जरुर निपटाये गये कई विधेयकों को पास कराया गया और अनुपूरक बजट भी पेश किया गया. पूरे सत्र के दौरान कभी भी गंभीरता से गतिरोध को दूर करने की कोशिश नहीं हुई. उच्च सदन की गरिमा को तार तार करने की चर्चा सदस्यों में जरुरी होती रही.

Check Also

बिहार के बक्सर में होगा बुलेट ट्रेन का स्टॉपेज ,दिल्ली तक का सफर महज छह घंटे में होगा पूरा

बिहार से दिल्ली जाने के लिए भारतीय रेलवे एक बड़ी सौगात लोगों को देने वाली …