नोटबंदी के बाद डिजिटल भुगतान वाली कंपनियों की चांदी

नयी दिल्ली: नोटबंदी के सरकार के फैसले से मोबाइल और डिजिटल भुगतान सेवाप्रदाताओं के कारोबार में जोरदार इजाफा देखने को मिल सकता है। एक रिपोर्ट में कहा गया है कि उंचे मूल्य के नोट बंद होने के बाद बड़ी संख्या में रिटेलर या खुदरा कारोबारी अपने कारोबार को नकदीरहित तरीके में बदल सकते हैं।
उद्योग मंडल एसोचैम की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि इसके अलावा प्रीपेड भुगतान सेवा :पीपीआई: देने वाले कई गैर बैंक खिलाड़ियों या मोबाइल अथवा डिजिटल वॉलेट सेवाप्रदाताओं के कारोबार में भी उल्लेखनीय बढ़ोतरी हो सकती है। बड़ी संख्या में लोग अपने रोजमर्रा के खचरें को पूरा करने के लिए इस तरह की सुविधाओं की ओर रख कर रहे हैं।
इसमें कहा गया है कि 45 पीपीआई खिलाड़ियांे ने अपनी सेवाओं की पेशकश शुरू की है, लेकिन कुछ ही ऑपरेटर आक्रामक तरीके से अपने परिचालन को बढ़ा रहे हैं और मार्केटिंग कर रहे हैं। एसोचैम के महासचिव डी एस रावत ने कहा, ‘नोटबंदी उनके लिए एक बड़ा अवसर है। सिर्फ अभी संकट के समय ही पीपीआई भारी वृद्धि दर्ज नहीं करेंगे, बल्कि आगे चलकर भी वे छोटे किराना दुकानदारों तक पहुंच बनाएंगे।’

Check Also

बिना इंटरनेट करे यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस यानी UPI सुविधा का इस्तेमाल

आप बिना इंटरनेट के भी यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस UPI सुविधा का इस्तेमाल किया जा सकता …