बेहतरीन पढ़ाई का मौका कम खर्च में कम ही लोग जानते हैं……….

नीदरलैंड तो यूरोपियन यूनियन का एक प्रमुख देश है जिसके इर्द-गिर्द यूरोप की अर्थ व्यवस्था भी घूमती है. पूरब में जर्मनी और दक्षिण में बेल्जियम से सीमा साझा करने वाला यह देश दुनिया भर के छात्रों के लिए सबसे पसंदीदा जगहों में से एक है.

images-8

लेकिन ऐसा हमारे देश में कम ही लोग जानते हैं कि इस डचभाषी देश में ऐसे कौन-कौन से कोर्सेस हैं जिनमें सबसे अधिक छात्र दाखिला लेते हैं, और नीदरलैंड तक पहुंचने के लिए क्या-क्या जरूरी है. इसके अलावा इस देश को हॉलैंड के नाम से भी जाना जाता है.

तो इस बार हम आपको रू-ब-रू करा रहे हैं नीदरलैंड के स्टडी कल्चर से कि आखिर ऐसी कौन-कौन सी चीजें हैं जो पूरी दुनिया से छात्रों को इसकी ओर खींचती हैं –

यहां की यूनिवर्सिटीज को राज्य पैसे देता है…
वैसे तो यह चलन भारत में भी प्रचलित है लेकिन इधर बीच प्राइवेट यूनिवर्सिटी की संख्या बहुत तेजी से बढ़ी है. जाहिर है कि प्राइवेट यूनिवर्सिटी आपसे मोटी रकम भी वसूलते हैं. तो वहीं नीदरलैंड में यूनिवर्सिटी रिसर्च में बांटे गए हैं. यहां कुल 14 रिसर्च तो वहीं 41 अप्लाइड साइंसेस की यूनिवर्सिटीज हैं. यहां रिसर्च को खास वरीयता दी जाती है.

नीदरलैंड सुरक्षा के लिहाज से बेहतरीन है…

नीदरलैंड को यूरोप के सबसे सुरक्षित देशों में शुमार किया जाता है और इस बात की गवाही देता है. अगर आप शहर में नए हैं तो अपने देश के दूतावास का फोन नंबर और पहचान पत्र जरूर लेकर चलें.

यहां का उम्दा मौसम…
यहां का मौसम साल भर कुछ ऐसा रहता है कि आप वहीं रह जाना चाहेंगे. न धूल-धक्कड़ और न लू के थपेड़े. आप 10 घंटे तक लगातार काम करने के बावजूद भी  नहीं महसूस करेंगे. ठंड में यहां का औसत तापमान 2 से 6 डिग्री सेल्सियस और गर्मी में 17 से 20 डिग्री सेल्सियस के बीच ही रहता है.

यहां का लाइफस्टाइल…
नीदरलैंड के लोग बेहद दोस्ताना होते हैं जिन्हें बीयर और फुटबॉल पसंद है. भारत से वहां जाने वाले छात्र शुरुआत में कई नई चीजों से रूबरू होते हैं, मगर धीरे-धीरे वे इन चीजों के आदी हो जाते हैं. यहां लेस्बियन और गे लोगों को हिकारत की नजर से नहीं देखा जाता. वर्तमान परिदृश्य में देखें तो नीदरलैंड में कुल 1,23,000 भारतीय रहते हैं. ये सारे प्रवासी हेग, एम्सटर्डम, रॉटेरडम और अलमियर जैसे शहरों में मुख्य तौर पर रहते हैं.

यहां दाखिले के लिए कौन-कौन सी परीक्षा देनी होती हैं… 
यहां पहुंचने के लिए आपको (IELTS) इंटरनेशनल इंग्लिश लैंग्वेज टेस्टिंग सिस्टम और (TOEFL) टेस्ट ऑफ इंग्लिश ऐज अ फॉरेन लैंग्वेज यहां के कॉलेजों और संस्थानों में दाखिले के लिए बेसिक जरूरत है.

यहां रहने का खर्च…
यहां रहने का खर्च आपके लाइफस्टाइल पर भी डिपेंड करता है, इसके अलावा इस पर भी कि आप अलग-अलग शहरों के किन इलाकों में रहते हैं. यहां लोगों को पार्ट टाइम जॉब भी बड़ी आसानी से मिल जाती हैं.

यहां पढ़ाई के लिए लोन और स्कॉलरशिप भी काफी हैं…
जाहिर है कि इस मंहगी के दौर में पढ़ाई भी मंहगी होती चली जा रही है, और इसी के मद्देनजर यहां कई स्कॉलरशिप भी हैं. इनमें से कई राज्य द्वारा प्रायोजित हैं तो वहीं कई का खर्च यूनिवर्सिटी प्रशासन उठाते हैं. इसके अलावा यदि आपका ऐकेडमिक रिकॉर्ड अच्छा है तो आपको लोन भी आसानी से मिल जाता है. जिन्हें आप पढ़ाई पूरी होने और जॉब मिल जाने पर धीरे-धीरे चुका सकते हैं.

Check Also

वरुण के कांग्रेस में एंट्री पर राहुल गांधी का बड़ा बयान

राहुल गांधी के नेतृत्व में निकाली जा रही भारत जोड़ो यात्रा मंगलवार को पंजाब के …