प्रेमिका की जिद्द कहा-बच्चे को दूंगी जन्म, प्रेमी ने किया प्रेग्नेंट

पटना। प्यार के चक्कर में पड़कर एक लड़की ने प्रेमी से रिश्ते बना लिए और गर्भवती हो गई। इसका पता उसे खुद नहीं चला लेकिन जब आठवें महीने के बाद उसका पेट बाहर आने लगा तो घरवालों को पता चला उन्होंने उसे डॉक्टर को दिखाया। डॉक्टर ने गर्भपात से मना कर दिया और लड़की ने भी जिद ठान ली कि वह बच्चे को जन्म देकर रहेगी।
घटना भोजपुर जिले की है जहां सोमवार सुबह बिन ब्याही मां एक युवती ने एक बेटे को जन्म दिया। इसके बाद परिजनों ने लोक-लाज के डर से नवजात को सपना सिनेमा-आंबेडकर कॉलोनी के झाड़ियों में फेंक दिया। नवजात के रोने की आवाज सुनकर एक महिला उसे उठाकर इलाज के लिए सदर अस्पताल ले आई।
अस्पताल ने नहीं दी जगह तो सड़क पर ही दिया बच्चे को जन्म …जानिए
बच्चे के जन्म के बाद युवती के शरीर से अधिक रक्तस्त्राव होने लगा। परिजन उसे भी उसी अस्पताल में इलाज के लिए ले गए। लेकिन पंजीयन पर कार्यरत कर्मी ने पति का नाम पूछा तो बताया कि अभी शादी नहीं हुई है। ड्यूटी पर कार्यरत नर्स टोप्पो ने बताया कि युवती के शरीर से अधिक खून गिर रहा था। महिला डॉक्टर से दिखाने की सलाह दी गई थी। लेडी डॉक्टर के आने का इंतजार करने के लिए परिजनों को बोला गया था। लेकिन, वे उसे निजी क्लिनिक ले गए।
मामी के साथ बेडरूम में था भांजा, मामा ने देख लिया फिर
मिली जानकारी के मुताबिक युवती अपने मामा के यहां रहती है। उसका पड़ोस में ही रहने वाले लड़के के साथ प्रेम प्रसंग चल रहा था। इसी में युवती गर्भवती हो गई। परिजनों को इसकी जानकारी तब मिली थी, जब आठवां महीना शुरू हो गया। परिजनों ने अपना सिर पीट लिया लेकिन युवती ने जिद ठान ली और सोमवार अल सुबह अपने घर पर ही बेटे को जन्म दिया।
पढ़ें – होली से पहले इस गांव में खेली गई थी ‘खून की होली’, भगवान को मिली ये सजा
बच्चे के जन्म के बाद घरवालों ने युवती पर दबाव बनाया और उसकी बेहोशी की हालत में ही नवजात को झाड़ी में फेंकना दिया और चले गए। इस दौरान बच्चे के रोने की आवाज सुनकर कॉलोनी की ही एक महिला ने नवजात को उठा लिया और अस्पताल ले गई, जहां बच्चे के शरीर पर पड़े जख्मों का इलाज किया गया।

Check Also

बिहार के बक्सर में होगा बुलेट ट्रेन का स्टॉपेज ,दिल्ली तक का सफर महज छह घंटे में होगा पूरा

बिहार से दिल्ली जाने के लिए भारतीय रेलवे एक बड़ी सौगात लोगों को देने वाली …