प्रेमिका के चक्कर में पकडाया गैंग लीडर, साड़ी पहनकर छापा मारे पुलिसवाले!

रायपुर। राजधानी में लालपुर स्थित शराब दुकान में भीड़ के सामने मैनेजर को गोली मारकर लूटपाट करने वाला गिरोह झारखंड में पकड़ा गया। फायर गिरोह नाम के इस गैंग का लीडर करण उर्फ माखन उर्फ राजा सिंह अपने तीन साथियों कुंदन उर्फ मुकुल, प्रदीप डोम व एक नाबालिग साथी के साथ पकड़ाया है। एक अन्य साथी फरार है।

– फायर गिरोह का लीडर करण अपनी प्रेमिका से मिलने के चक्कर में पुलिस के जाल में फंसा।
– उसकी प्रेमिका के घर पर रेड करना बेहद जोखिम भरा काम था। हालात को देखते हुए क्राइम ब्रांच के जवानों ने महिलाओं के वेश में छापा मारा।
– वहीं से लुटेरों का क्लू मिला और 24 घंटों के भीतर आरोपी पकड़े गए।

– क्राइम ब्रांच के एडिशनल एसपी अजातशत्रु बहादुर सिंह ने बताया कि गिरोह का लीडर करण और उसका नाबालिग साथी अपनी प्रेमिका से मिलने जालंधर गए थे।
– झारखंड निवासी करने के कुछ रिश्तेदार वहां ईट भट्टा में काम करते हैं। प्रेमिका के कारण दोनों कई दिनों तक वहीं रहे।
– इस बीच उन्होंने वहां भी एक कारोबारी को लूटने की योजना बनाई। कारोबारी का पीछा कर उसकी रेकी कर चुके थे।
– इस बीच उनके जालंधर में होने की खबर क्राइम ब्रांच की इन्वेस्टिगेशन टीम को हो गई।
– आनन फानन में एक टीम भेजी गई। 10 दिनों तक छानबीन करने के बाद गैगस्टरों की प्रेमिका का पता चला।
– प्रेमिका के घर पर भी दबिश देना आसान नहीं था। पुलिस वालों ने महिलाओं की तरह साड़ी पहनकर छापा मारा।
– तब तक करण अपने नाबालिग साथी के साथ झारखंड के लिए निकल चुका था।
– पूछताछ में पुलिस को सब पता चल गया कि वे कौन सी ट्रेन से जा रहे हैं। एक टीम औरंगाबाद भेज दी गई।
– करण के झारखंड पहुंचने से पहले ही वहां टीम मौजूद थी। उन्होंने करण और उसके नाबालिग साथी को दबोच लिया।
– उसके बाद उन्हीं कि निशानदेही पर गरियाबंद के कुंदन और प्रदीप भी पकड़ लिए गए।
– आरोपियों से 5 पिस्टल, 1 कट्टा और 52 कारतूस बरामद किया गया है। इसके अलावा 12 हजार नकद मिला है।

एेसे दिया था घटना को अंजाम
– कुंदन ने टिकरापारा के कृष्णानगर में किराये का मकान ले रखा था। उसके बाकी साथी भी वहीं आकर ठहरे।
– वे 1 अक्टूबर को पूरी तैयारी के साथ लालपुर स्थित शराब दुकान में घुसे और मैनेजर को गोली मारकर रुपयों से भरा लूट लिया।
– लूट के बाद वे वापस किराये के मकान में जाकर रुके और अगले दिन वहां से झारखंड रवाना हो गए।
– पुलिस के मुताबिक घटनास्थल और मकान की दूरी कम होने के कारण उन्हें गायब होने में ज्यादा वक्त नहीं लगा।
– लुटेरों का कॉन्फिडेंस इतना बढ़ा हुआ था कि रायपुर के 16 दिन बाद उन्होंने महासमुंद में भी शराब दुकान लूटा।
– दोनों जगहों के सीसीटीवी फुटेज में लूट की स्टाइल और चेहरे की समानता ने पुलिस को आरोपियों तक पहुंचाया।

 

 

Check Also

मंत्रिमंडल में फेरबदल: नई मंत्रिपरिषद में भी 11 महिलाओं के होने की उम्मीद

मंत्रिमंडल में फेरबदल: नई मंत्रिपरिषद में भी 11 महिलाओं के होने की उम्मीद

केंद्रीय मंत्रिपरिषद, जिसे आज शाम नए लोगों के शपथ ग्रहण के साथ विस्तारित किया जाएगा, …