बैंक के कर्मचारी हुआ बीमार नोट गिनते गिनते

बिलासपुर। पुराने नोट गिनते गिनते शहर के बैंकों में पदस्थ एक दर्जन कैशियर बीमार पड़ गए हैं। सालों से तिजोरियों में बंद नोटों में फंगस व बैक्टीरिया लगने के कारण यह समस्या उत्पन्न् हुई है। बैंक अधिकारी इसका खुलासा करने से भी डर रहे हैं। दूसरी ओर मुंह के छाले, सर्दी व सिरदर्द होने के बाद भी कैशियर ड्यूटी कर रहे हैं।

नोट बैन के बाद बैंको में प्रतिदिन बड़ी संख्या में ग्राहक पांच सौ और एक हजार के पुराने नोट जमा करने पहुंच रहे हैं। बैंक कैशियर को गिनने में तीन से चार घंटे अतिरिक्त समय देना पड़ रहा है। इन सब के बीच बैंककर्मियों के लगातार बीमार होने की खबर भी आ रही है। शुक्रवार को नईदुनिया की टीम जब शहर के प्रमुख जगहों के बैंकों में पहुंची तो वास्तविकता का पता चला।

इस दौरान एक दर्जन कैशियर बीमार मिले। इसकी मुख्य वजह इंफेक्शन और एलर्जी है। पुराने नोट में धूल और फंगस होने के कारण ये कर्मचारी सीधे संपर्क में आ जा रहे हैं। ज्यादातर कैशियर एसबीआई, विजया बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, केनरा बैंक, बैंक ऑफ इंडिया और बैंक आफ महाराष्ट्र के हैं। शिकायत पर अब मास्क व दस्ताने की भी मांग की जा रही है।

कैशियरों ने कहा- नोट गिनने से सिरदर्द व बुखार

विजया बैंक के हेड कैशियर अमोल प्रसन्ना तिग्गा का कहना है कि आठ नवंबर से पहले वे बिल्कुल स्वस्थ्य थे। लेकिन पांच सौ और हजार के नोटों के बंडल गिनने के बाद अब ऐसा लग रहा है कि परेशानी हो रही है। सिरदर्द और हल्का बुखार है।

पंजाब नैशनल बैंक दयालबंद की हेड कैशियर विभा शिंकु का कहना था कि अचानक छाले और सर्दी हो गई है। एलर्जी वजह हो सकती है। डॉक्टर के संपर्क में हूं। बैंक ऑफ महाराष्ट्र के कैशियर पीके चौहान का कहना था कि वे लंबे समय से पूरी तरह से नींद नहीं ले पा रहे हैं। पुराने नोटो को गिनने में समस्या भी होती है।

Check Also

मंत्रिमंडल में फेरबदल: नई मंत्रिपरिषद में भी 11 महिलाओं के होने की उम्मीद

मंत्रिमंडल में फेरबदल: नई मंत्रिपरिषद में भी 11 महिलाओं के होने की उम्मीद

केंद्रीय मंत्रिपरिषद, जिसे आज शाम नए लोगों के शपथ ग्रहण के साथ विस्तारित किया जाएगा, …