भगवन तुंगनाथ के पूजन स्थान में हुआ परिवर्तन

तृतीय केदार भगवान तुंगनाथ के कपाट सोमवार को शीतकाल के लिए बंद कर दिए जाएंगे। भगवान तुंगनाथ की शीतकाल में मार्केण्डेय मंदिर मक्कूमठ में पूजा होगी।

सोमवार को प्रात: 8 बजे से मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना शुरू हुई। मंदिर के मुख्य पुजारी ने भगवान की आरती की और इसके बाद मूर्ति को मंदिर परिसर में विराजमान किया गया। शुभ मुहूर्त पर प्रात: 10.30 बजे भगवान तुंगनाथ के कपाट बंद किए जाएंगे।
भगवान तुंगनाथ की डोली मंदिर की परिक्रमा के बाद अपने शीतकालीन गद्दी स्थल के लिए प्रस्थान कर पहले पड़ाव पर चोपता पहुंचेगी। विदित हो कि इस वर्ष 11 मई को तृतीय केदार के कपाट खुले थे। बता दें कि तृतीय केदार में भगवान आशुतोष के बाहु भाग की पूजा होती है|

मंदिर के प्रबंधक प्रकाश पुरोहित ने बताया कि आपदा के बाद इस वर्ष धाम में 15 हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। बताया कि शीतकालीन गद्दी स्थल में सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।

Check Also

मैने शुरू किया टी10 -टी20 क्रिकेट : राम रहीम

डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख राम रहीम ने दावा किया है कि टी10 और टी20 …