माफिया की गुलाम उत्तराखंड सरकार: आइएएस सूर्य प्रताप सिंह

हल्द्वानी : आइएएस सूर्य प्रताप सिंह 25 साल बाद सोमवार को फिर से हल्द्वानी में गरजे।

 

 

हल्द्वानी: आइएएस सूर्य प्रताप सिंह 25 साल बाद सोमवार को फिर से हल्द्वानी में गरजे। इस बार वह डीएम के रूप में नहीं, बल्कि एक वक्ता के रूप पहुंचे। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार भ्रष्ट है और उत्तराखंड में 10-15 नेता ऐसे हैं, जिन्हें सलाखों के पीछे होना चाहिए। दोनों राज्यों की सरकारों पर कटाक्ष करते हुए बोले, यह माफिया की गुलाम हो गई हैं। नेताओं व अधिकारियों के गठजोड़ ने लोकतांत्रिक व्यवस्था को ध्वस्त कर दिया है।

एकल अभियान समिति की ओर श्रीरामलीला मैदान में ‘लोकतंत्र में समाज की भूमिका’ विषय पर आयोजित गोष्ठी में डॉ. सिंह ने अपने दो साल के कार्यकाल में छह ट्रांसफर किए जाने पर उत्तर प्रदेश सरकार पर तीखा व्यंग्य किया। कहा, सरकार की इस स्थिति से तंग आकर मैं पढ़ने के लिए अमेरिका के मिशिगन चला गए। जब लौटा तो भी वही स्थिति थी। दो साल से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति के लिए आवेदन कर सामाजिक अभियानों से जुड़े डॉ. सिंह ने कहा कि नौ नवंबर 2000 को उत्तराखंड बना, लेकिन यहां की सरकारें भूमि, शराब, खनन माफिया की गुलाम हो गई। अब आपको इन सरकारों को उखाड़ फेंकना होगा। उन्होंने लोगों से अपील की कि अगर आप व्यवस्था बदलने का संकल्प लेते हैं, तो मैं तैयार हूं। डॉ. सिंह ने उत्तराखंड के नेताओं की तीखी आलोचना करते हुए कहा कि मनी पावर, मसल्स पावर वाले नेता इस राज्य के वास्तविक नेता नहीं। आप उनसे हिसाब मांगिए। उन्होंने कैसे अवैध रूप से होटल, मकान, प्लॉट व बेहिसाब बेनामी संपत्ति जोड़ी। आपके सवाल का जवाब उनके पास नहीं होगा। मैं भी ऐसे सवाल करने के लिए आपके साथ हूं। सारी हकीकत सामने आ जाएगी।

उन्होंने किच्छा में लगे एक अधिकारी के पोस्टर पर भी तीखा कमेंट किया और पोस्टर वाले नेताओं पर रासुका लगाने तक की बात तक कह डाली। अभियान की ब्रांड एंबेसडर व तमिल फिल्मों की प्रसिद्ध अभिनेत्री प्राची अधिकारी ने परिवारवाद की राजनीति करने वाले दलों पर कटाक्ष किया और कहा कि यह स्थिति लोकतांत्रिक व्यवस्था के खिलाफ है। ऐसे में आपको साथ देना होगा। ऐसे भ्रष्ट नेताओं को उखाड़ फेंकना होगा। इससे पहले अमरनाथ जोशी, नीरज शारदा, ललित किशोर पांडेय ने विचार व्यक्त किए। इस दौरान कुसुम सिंह, राहुल जोशी, कमलमुनि, संजय सिंह खाती, प्रताप सिंह, हेमा शर्मा, दलजीत सिंह, अमरजीत सिंह भोपाराय, डॉ. प्रमोद अग्रवाल गोल्डी, तरुण बंसल, भुवन भट्ट, शांति जीना, कुसुम दिगारी, सुचित्रा जायसवाल, शकील सलमानी आदि शामिल रहे।

उप्र सरकार के लिए किसी की जान लेना बड़ी बात नहीं

डॉ. सिंह उत्तर प्रदेश सरकार पर आरोप लगाया कि वह भ्रष्ट सरकार है। वहां पर किसी की जान लेना बड़ी बात नहीं है, लेकिन युवा मेरा साथ देंगे। मेरे ढाई लाख फेसबुक फ्रेंड हैं। जिनसे मैं सीधे जुड़ा रहता हूं।

रोजगार देने वाली पार्टी के साथ रहूंगा खड़ा

डॉ. सिंह ने सीधे चुनाव लड़ने और किसी भी पार्टी में शामिल होने को लेकर स्पष्ट नहीं किया, लेकिन कहा, जो पार्टी यहां के पांच लाख बेरोजगार युवाओं को रोजगार देगी। मैं उनके साथ रहूंगा।

Check Also

रूम हीटर के नुकसान

पूरे उत्तर भारत में सर्दी का आलम बना हुआ है। ऐसे में कई लोग अलाव …