रंगों का क्या प्रभाव है हमारे स्वभाव पर

विज्ञान यह सिद्ध कर चुका है कि रंगों का हमारे जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ता है। आप चाहे जितने तनाव में हों, दुखी हों…हरे-भरे पेड-पौधों या फिर खुले आसमान के नीचे पहुंचकर मन हल्का होने लगता है। जैसे सफेद रंग आपके मन को शांत करता है। वहीं यदि आप तनाव में हैं तो लाल रंग आपको और बेचैन करेगा। शांति और सुकून पहुंचाने वाले रंगों के बारे में बताती ये रिपोर्ट।

सफेद: सफेद रंग ताजगी और पवित्रता का प्रतीक है। यदि आप बहुत तनाव में हैं तो सफेद रंग का प्रयोग करें। यह आपके विचारों में भी स्पष्टता देगा। सफेद रंग से पुता कमरा गर्भवती महिला या फिर प्रतिस्पर्धी परीक्षा देने वाले बच्चों के लिए भी अच्छा माना जाता है। बशर्ते साफ सफाई भी हो।

पीला : पीला रंग हमेशा आपको जीवंत और ऊर्जावान रखेगा। यदि आप इस पर अपनी आंखें गड़ाए रखते हैं तो यह तुरंत ही आपके मूड को बदलने की क्षमता रखता है। कई शोध में यह सिद्ध हुआ है कि जो लोग ऐसे कमरे में रहते हैं जिसके पेंट का रंग पीला है, वे दूसरों की तुलना में ज्यादा ऊर्जावान और उत्साही हुआ करते हैं।

हरा : हरा रंग शांति-दाता है। चूंकि यह प्रकृति का प्रतीक रंग है, इसलिए यह बहुत खूबसूरत और बहुत आरामदायक भी है। इससे बहुत सकारात्मक भावना का जन्म होता है, जो आपकी व्यग्रता को कम करती है और

आपको शांत बनाए रखती है।

नीला : नीला भी शांत और नाजुक रंग है। इस रंग में स्ट्रैस का शमन करने की शक्ति है। यह बहुत ही आरामदेह रंग है, जो आपके मन और मस्तिष्क को शांत करता है। यह दिल की धड़कन को संतुलित करता है, ब्लड प्रेशर को

कम करता है और व्यग्रता को नियंत्रित करने में मदद करता है। इस रंग को शीतल माना जाता है।

पिंक : गुलाबी या पिंक कलर चित्त को शांत करने में मदद करता है। कहा जाता है कि पिंक कलर बहुत सारी नकारात्मकता ऊर्जा का शमन करता है। साथ ही यह आपकी ऊर्जा को सही दिशा में ले जाने का काम भी करता

है। हालांकि पिंक कलर फेमिनिन माना जाता है, फिर भी इसका सही शेड पुरुष भी कहीं भी इस्तेमाल करते हैं।

वायलेट : वायलेट कलर शक्ति, शांति और बुद्धि का प्रतीक माना जाता है। यह आपको संतुलित करने की शक्ति रखता है और मन को शांत करता है। यह हडि्डयों के विकास के साथ शरीर में पोटेशियम और सोडियम के संतुलन के लिए भी अहम माना जाता है।

Check Also

लड़कियों की कौन सी बातें लड़कों को सबसे ज्यादा प्रभावित करती हैं

अकसर यह कहा जाता है कि लड़कियां अपना पार्टनर बहुत सोच समझकर चुनती हैं लेकिन …