कर्फ्यू में ढील होते ही बाज़ार में उमड़ी भीड़

विदिशा- बजरंग दल के संयोजक दीपक कुशवाह की हत्या के बाद हुई हिंसा को देखते हुए मध्यप्रदेश के विदिशा जिले में लगे कर्फ्यू में तीसरे दिन तीन घंटे की ढील दी गई. इस मौके का फायदा उठाते हुए दुकानदारों ने सामान को महंगी दरों पर बेचकर खूब मुनाफा कमाया.
शहर में पिछले 3 दिनों से जारी कर्फ्यू में मंगलवार को प्रशासन ने सुबह 9 से 12 तक तीन घंटे की ढील दी थी. घोषणा होते ही बाजार में भीड़ उमड़ पड़ी और लोगों ने रोजमर्रा की जरूरतों का सामान खरीदा.
कर्फ्यू लगाए जाने के बाद शहर में हिंसा की कोई ताजी घटना सामने नहीं आई है. प्रशासन आज शाम को हालात की समीक्षा करेगा और इसके बाद ही कर्फ्यू में ढील देने पर कोई फैसला लिया जाएगा.
रविवार दोपहर को भारी उपद्रव
कलेक्टर अनिल सुचारी ने बताया, ‘‘रविवार दोपहर को जिले के शहरी सीमा में कर्फ्यू लगा दिया गया है.’’ उन्होंने कहा कि शहर में तनाव है और हम लोगों से अपने-अपने घरों में रहने के लिए अनुरोध कर रहे हैं, ताकि स्थिति को जल्द काबू में किया जा सके.
शनिवार शाम को दीपक कुशवाह की हत्या की खबर के बाद से ही शहर में भारी तनाव था. रविवार को हिंसा का दौर उस वक्त शुरू हुआ, जब मृतक के शव को पोस्टमॉर्टम के बाद घर लाया जा रहा था.
पुलिस सूत्रों के अनुसार तीन घरों को जला दिया गया और कोतवाली पुलिस थाना क्षेत्र में हुए पथराव में तीन व्यक्तियों को चोटें भी आई हैं.
कर्फ्यू लगाने से एक घंटे पहले जिला प्रशासन ने धारा 144 के तहत एहतियाती तौर पर निषेधाज्ञा लगा दी थी. लेकिन जब स्थिति में सुधार नहीं हुआ, तो कर्फ्यू लगा दिया गया.
पुलिस ने हत्या के मामले में 13 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार भी कर लिया था.

Check Also

मध्य प्रदेश के दमोह में ईसाई मिशनरी पर बच्चों का धर्म परिवर्तन करने का आरोप

मध्यप्रदेश के दमोह में राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो ने एक ईसाई …