लालू की ललकार: मेरी वजह से विश्व में पहचान मिली, छठ समाजवाद और समतावाद का प्रतीक है

चार दिनों तक चलने वाला आस्था का महापर्व छठ सोमवार की सुबह भगवान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ संपन्न हो गया. इस मौके पर राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने लोगों को इस महापर्व की बधाई दी. लालू ने कहा, ‘छठ समाजवाद और समतावाद का प्रतीक है. मेरी वजह से इसे राष्ट्रीय ही नहीं, बल्कि अंतरराष्ट्रीय पहचान मिली.’
इस पर्व की विशेषता के बारे में आरजेडी प्रमुख ने कहा कि इस पूजा में आधुनिकता का दिखावटी प्रदर्शन नहीं होता. उन्होंने कहा, ‘लोग कहते हैं कि मेरी वजह से छठ पूजा को राष्ट्रीय ही नहीं, बल्कि अंतरराष्ट्रीय पहचान मिली. मुझे कई लोगों से बधाई संदेश मिले हैं, ऐसे शुभचिंतकों को मैं इतना कहना चाहता हूं कि जो कुछ है, वह सब आपके प्यार, समर्थन, सहयोग और विश्वास की बदौलत है.’
पूरी तरीके से इको फ्रेंडली है छठ
अपने संदेश में लालू ने कहा कि छठ महापर्व पूरे तरीके से इको फ्रेंडली, समतावादी और समाजवादी सोच के प्रतीक का पर्व है. इसमें किसी पंडित या पुरोहित की जरूरत नहीं होती. इस पर्व में इस्तेमाल होने वाली तमाम चीजें प्राकृतिक होती हैं. छठ में इस्तेमाल होने वाली तमाम चीजें हर आय वर्ग की अप्रोच में होता है.

लालू के परिवार ने इस बार नहीं मनाया छठ
बता दें, लालू प्रसाद यादव के परिवार में इस बार छठ का पर्व नहीं मनाया गया है. राबड़ी देवी ने स्वास्थ्य कारणों से इस बार ये व्रत नहीं रखा. उन्होंने कहा कि दोनों बेटों की शादी के बाद ही वह अब छठ का व्रत रखेंगी.

Check Also

बिहार के बक्सर में होगा बुलेट ट्रेन का स्टॉपेज ,दिल्ली तक का सफर महज छह घंटे में होगा पूरा

बिहार से दिल्ली जाने के लिए भारतीय रेलवे एक बड़ी सौगात लोगों को देने वाली …