शिक्षा को लेकर जागरूक हुए नक्सलगढ़ के बच्चे,15 फीसदी बढ़त

रायपुर।  राज्य में चलाए जा रहे डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम शिक्षा गुणवत्ता अभियान और आउट सोर्सिंग से शिक्षकों की भर्ती का नतीजा नक्सलगढ़ के नौनिहालों पर दिखा है। शिक्षा उपलब्धि स्तर सर्वे में तीसरी-पांचवीं कक्षा में हिन्दी में 15 फीसदी तक शिक्षा का उपलब्धि स्तर बढ़ा है। इसमें सबसे अधिक बस्तर में 74 प्रतिशत और कांकेर में 69 प्रतिशत छात्रों का स्तर आंका गया है। पर्यावरण, विज्ञान और अंग्रेजी विषयों में मामूली बढ़त है, लेकिन गणित विषय में तीसरी, पांचवीं और आठवीं के 60 फीसदी बच्चे फिसड्डी निकले हैं।

सरकार ने कराया सर्वे:राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद ने उपलब्धि सर्वे रिपोर्ट 2016 जारी कर दी है। इसके पहले 2013-14 में सर्वे हुआ था। तब और अब की तुलना में तीसरी कक्षा में हिन्दी में 15 फीसदी बढ़त, गणित में 4.83 प्रतिशत गिरावट, 5वीं हिन्दी में 10 प्रतिशत बढ़त, गणित में 4 प्रतिशत गिरावट, जबकि पर्यावरण और अंग्रेजी में क्रमशः 7.26 और 6.77 प्रतिशत बढ़त दर्ज हुई है। 8वीं में हिन्दी में 11.65 प्रतिशत बढ़त,गणित में 7 प्रतिशत गिरावट, विज्ञान में 0.31 गिरावट और अंग्रेजी में 3.26 बढ़त हुई है। सर्वे में राज्य के सभी ब्लॉकों से हर विषय के 100-100 छात्रों का रैंडम चयन कर सैंपलिंग की गई थी।हिन्दी, अंग्रेजी, विज्ञान में बेहतर परिणाम आने की वजह सरकार का गुणवत्ता अभियान व आउटसोर्सिंग के जरिए नक्सल इलाकों में टीचर्स उपलब्ध कराना भी है। अब परिणाम के आधार पर गणित को मजबूत किया जाएगा।

-केदार कश्यप, मंत्री, स्कूल शिक्षा

Check Also

रूम हीटर के नुकसान

पूरे उत्तर भारत में सर्दी का आलम बना हुआ है। ऐसे में कई लोग अलाव …