‘भगवान’ के विवाह के लिए समाज के खाते में 5 लाख रुपए से अधिक राशि जमा…

नामली/रतलाम। नोटबंदी के नियमों से भगवान की शादी में भी व्यवधान आ गया है। अगले माह नामली में भगवान चारभुजानाथ का माता तुलसी से विवाह होना है। इस दिन हजारों लोगों की भोजन व्यवस्था के लिए आयोजकों को 2 लाख रुपए की जरूरत है। वे बैंक पहुंचे तो मैनेजर ने रिजर्व बैंक के नियमों का हवाला देते हुए कहा कि एक साथ वे इतने रुपए नहीं निकाल सकेंगे। मजबूरी में अब समाजजनों से रुपए इकट्ठे कर विवाह की तैयारियां की जा रही हैं। विवाह के लिए समाज के खाते में 5 लाख रुपए से अधिक राशि जमा है।

कुमावत समाज के मंदिर में 1 दिसंबर को भगवान श्री चारभुजानाथजी का माता तुलसी से विवाह होना है। परंपरानुसार इस दिन भगवान की बारात निकलेगी, सात फेरे सहित अन्य रस्में निभाई जाएंगी। 27 नवंबर से ही देव विवाह की तैयारियां प्रारंभ हो जाएंगी।

फिलहाल विवाह के लिए पत्रिका छपवा कर बांट दी गई हैं। 7000 लोगों को भोजन पर बुलाया गया है। इस सबके लिए 2 लाख रुपए की जरूरत होगी। आयोजन समिति के राजेश भरावा के अनुसार समाजजनों ने मंदिर प्रबंधन समिति के नाम से सतपुड़ा नर्मदा क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक में बचत खाता खोला है। इसमें 5 लाख 35 हजार रुपए जमा किए हैं।

भगवान के माता-पिता कहां से लाएं

पत्रिका लेकर बैंक से राशि निकालने पहुंचे तो मैनेजर ने नोटबंदी और आरबीआई के नियमों का हवाला देते हुए कहा कि एक सप्ताह में केवल 24 हजार रुपए ही निकाले जा सकते हैं। मामला कलेक्टर और लीड बैंक मैनेजर तक पहुंचा। इस पर उन्होंने स्पष्ट किया कि धार्मिक आयोजन के लिए भी फिलहाल शिथिलता बरतने के निर्देश नहीं हैं। भरावा के अनुसार भगवान की पोशाक खरीदने व अन्य तैयारियों के लिए रुपयों की जरूरत है, लेकिन बैंक मैनेजर ने राशि देने से

Check Also

जानिए कब होंगे राम मंदिर के दर्शन ?

2 साल पहले 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में राम मंदिर के …