सिलेंडर में लगी आग,छत और दिवार के साथ जल गये अरमान|

हरयाणा. शहर के लाइनपार क्षेत्र स्थित विकास नगर कॉलोनी के एक मकान में बीती रात आग लग गई। आग लगने के बाद एक सिलेंडर फट गया तो दूसरे में भी गैस का रिसाव हो गया। इससे मकान की छत और दीवारें तक उखड़ गईं। घर में कोई न होने के कारण जनहानि नहीं हुई, लेकिन बेटी की शादी के लिए रखा गया दहेज का सामान जलकर राख हो गया। पीड़ित परिवार के मुताबिक, इस घटना से उन्हें करीब पांच लाख रुपये का नुकसान हुआ है।

धमाके के साथ उखड़ गई छत- विकास नगर की गली नंबर-16 में किराये के मकान में रहने वाली सुनीता पत्नी रणधीर बुधवार शाम बच्चों सहित बहादुरगढ़ में ही अपने किसी रिश्तेदार के यहां गई हुई थीं। इसी रात करीब दो बजे मकान में अचानक आग लग गई। आग लगने के कुछ ही मिनट बाद जबरदस्त धमाका हुआ तो सभी लोग बाहर आ गए। आसपास अफरा-तफरी मच गई। पड़ोसियों ने फायर ब्रिगेड बहादुरगढ़ को सूचित किया। कुछ ही समय बाद फायर ब्रिगेड की दो गाड़ियां भी मौके पर पहुंच गईं।

फायर ब्रिगेड कर्मियों ने कड़ी मशक्कत से आग पर काबू पाया, लेकिन तब तक सारा सामान जल चुका था। हादसा इतना जबरदस्त था कि कमरों की छत फट गई और दीवारें उखड़ गई। आग लगने का कारण शॉर्ट-सर्किट बताया जा रहा है। फायर ब्रिगेड कर्मियों के मुताबिक, एक सिलेंडर फट गया और दूसरे में भी आग लग चुकी थी। किचन में भी एक सिलेंडर रखा था। यदि इन दोनों सिलेंडरों में आग लगने से ब्लास्ट होता तो आसपास के लोगों के लिए भी परेशानी हो सकती थी। फटने वाले सिलेंडर को फायर ब्रिगेड अपने साथ ले गई। लाइनपार थाने से पुलिस भी मौके पर पहुंच गई थी।

जल गए अरमान- सुनीता इस मकान में अपनी दो बेटी और एक बेटे समेत तीन बच्चों सहित रहती है। गुरुग्राम में चप्पलें बेचकर वह अपने परिवार का पोषण कर रही थी। सुनीता के मुताबिक, आगामी कुछ दिनों में उसकी बेटी की शादी थी। वह बेहद धूमधाम से बेटी की शादी करना चाहती थी। एक-एक कर वह अपनी बेटी की शादी का सामान जुटा रही थी, लेकिन आग लगने से सब कुछ खत्म हो गया। आग बेटी को देने के लिए रखे दहेज के सामान में नहीं, बल्कि उसके अरमानों में लगी है।

नए बर्तन, कपड़े, वाशिंग मशीन, सिलाई मशीन, फ्रिज सहित अन्य कीमती सामान जल गया। इसके अलावा घर का फर्नीचर, बर्तन, टीवी सहित तमाम सामान जल गया। सुनीता के मुताबिक, इस घटना से उसे करीब 5 लाख का नुकसान हुआ है। घटना के अगले दिन शाम तक सुनीता घर में जले सामान को देखकर रोती रही। परिचित और पड़ोसी उसे सांत्वना देते नजर आए।

अधिकारी बोले- उधर, जिला दमकल अधिकारी डीके नंदा का कहना है कि फिलहाल आग लगने के कारणों का पता नहीं चल सका है। महिला को रिपोर्ट बनाकर दे दी जाएगी, ताकि वह मुआवजे के लिए आवेदन कर सके।

 

Check Also

अखिलेश प्रसाद मौर्य हुए कांग्रेस पार्टी में शामिल

जब उनसे यह पूछा गया कि तो क्या आप आरसीपी सिंह को नौकरी देंगे? इसके …