100 रु. मांगे, मां ने 500 का नोट दिया तो लगा ली फांसी

इंदौर। 22 वर्षीय युवक ने गुरुवार सुबह अपने रूम में दो घंटे एरोबिक्स की। फिर मां के पास पहुंचा। बोला- सिर के बाल सफेद हो रहे हैं। हेयर ऑइल लाना है। मां ने पांच सौ का नोट थमा दिया। इससे वह गुस्सा हो गया। उसका कहना था कि भारत सरकार इसे बंद कर चुकी है। मां के पास सौ का एक ही नोट था।

उसका कहना था कि इससे घर का सामान आ जाएगा। तू नारियल का तेल लग ले। युवक गुस्सा हो गया और उसने कमरा बंदकर फांसी लगा ली। घटना रुकमणि नगर की है। एरोड्रम पुलिस के अनुसार, खुदकुशी करने वाले युवक का नाम अरविंद अहिरवार था। घटना के वक्त घर पर उसकी दो बहनें दीपाली और रुचि भी थी।

मां दरवाजा खटखटाती रही, बेटा नहीं माना

दीपाली ने बताया कि वह काफी जिद्दी था। कई बार मरने की बात कर चुका है। एक-दो बार हाथ भी काट चुका है। जैसे ही अरविंद ने दरवाजा लगाया तो मां उसके दोस्तों को बुला लाई। सभी दरवाजा खटखटाने लगे। वह आधा घंटे तक सबसे बात करता रहा। बोला- मैं बाद में बाहर आऊंगा। इसके बाद सभी दोस्त चले गए। बहनें अभी आगे के कमरे में चली गईं, लेकिन मां हीरा बाई का मन नहीं माना और वह दरवाजा खटखटाते रही।

दोस्त आया तो घटना का पता चला

दो घंटे बाद अरविंद का एक दोस्त आया। उसने सीढ़ी लगाकर रोशनदान से देखा तो वह फांसी के फंदे पर लटका हुआ था। सभी ने दरवाजा तोड़ा और उसे अस्पताल ले गए। वहां उसे मृत घोषित कर दिया गया।

पिता जैसा अफसर बनना चाहता था

पुलिस के मुताबिक, अरविंद के पिता 15वीं बटालियन में कंपनी कमांडर थे। उनकी मौत के बाद बड़े बेटे वीरेंद्र को अनुकंपा नियुक्ति मिली। वह ग्वालियर में ट्रनिंग पर है। छह बहनों में से चार की शादी हो चुकी है। दोस्तों ने बताया कि अरविंद अच्छा खासा एरोबिक्स जानता था। प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी भी कर रहा था। उसका सपना था कि पिता जैसा अफसर बने। एक जगह अकाउंटिंग भी करता था।

Check Also

खंडवा में एक युवक के धर्म परिवर्तन करने का मामला आया सामने

खंडवा में बीते गुरुवार को करीब पांच महीने बाद एक युवक थाने में मस्जिद के …