आईएस ने मोसुल की प्रसिद्ध नूरी मस्जिद को उड़ाया

बगदाद , मोसुल में जिहादियों ने ऐतिहासिक मीनार और पास की मस्जिद को उड़ा दिया है। इसी मस्जिद में वर्ष 2014 में पहली बार सार्वजनिक रूप से सामने आए अबु बकर अल बगदादी ने खुद को खलीफा घोषित किया था। इराक के प्रधानमंत्री हैदर अल आबदी ने कहा कि मस्जिदों को तबाह किया जाना जिहादियों की ओर से हार की आधिकारिक घोषणा है। इराकी सेना के एक शीर्ष कमांडर अब्दुलमीर याराल्लाह ने एक बयान में कहा, ‘हमारे जिहादी पुराने शहर में अंदर तक उनके ठिकानों की ओर बढ़ रही है और जब वे नूरी मस्जिद के 50 मीटर के दायरे में घुस गए तो आईएस ने नूरी मस्जिद और हदबा को उड़ा कर एक और ऐतिहासिक अपराध किया। इस्लामिक स्टेट ने अपनी प्रचार एजेंसी अमाक के जरिए तुरंत एक बयान जारी कर इसके लिए अमेरिकी हमले को जिम्मेदार ठहराया, जबकि अमेरिकी नीत गठबंधन ने स्थल को नष्ट किए जाने की निंदा की और इसे मोसुल और इराकी लोगों के खिलाफ अपराध बताया। इराकी प्रधानमंन्नी हैदर अल आब्दी ने कल कहा कि स्थल को नष्ट किया जाना मोसुल पर कब्जे की आठ महीने लंबी लड़ाई में जिहादियों की ओर से हार का औपचारिक ऐलान है। मोसुल पर किए जा रहे हमलों के कमांडर स्टाफ लेफ्टिनेंट जनरल अब्दुल आमीर याराल्लाह ने बयान में कहा कि हमारे बल ओल्ड सिटी में भीतर तक लक्ष्य की ओर बढ़ रहे हैं और जब वे नूरी मस्जिद के 50 मीटर के घेरे में पहुंच गए तो आईएस ने नूरी मस्जिद और हदबा मस्जिद को उड़ाकर ऐतिहासिक अपराध किया। मोसुल की दो मस्जिद को नष्ट किए जाने की घटना ओल्ड सिटी पर कब्जा करने के इराकी हमले के चौथे दिन हुआ। इराकी बलों को अमेरिकी नीत गठबंधन का समर्थन हासिल था।
00

Check Also

पीएम मोदी ने दी पाकिस्तान को चेतावनी,’नो मनी फॉर टेरर’ सम्मेलन का किया उद्घाटन

पीएम मोदी ने आतंक के खिलाफ उठाए अहम कदम, अब होगा आतंक का खात्मा। राष्ट्रीय …