29 आतंकियों पर सरकार ने 7 साल में 33 करोड़ खर्च कर दिए

भोपाल. सेंट्रल जेल से भागे आठ आतंकी एनकाउंटर में मारे जा चुके हैं। मगर अंदर मौजूद 21 दूसरे आतंकी मनमानी पर उतारू हैं। मंगलवार को इन्होंने जेल में सर्चिंग के दौरान हंगामा किया। अफसरों को गालियां दी। धमकी तक दी। बता दें कि 7 साल में सरकार इन पर 33 करोड़ रुपए खर्च कर चुकी है।
शुरू से ही अफसरों पर कायम है आतंकियों की दहशत…
– 2009 से ये आतंकी जेल में हैं। शुरू से ही इन्होंने जेल के अफसरों पर दहशत कायम कर रखी है। – आए दिन अफसरों को धमकी देना इनकी आदत में है। अब भी 21 आतंकी जेल में हैं। वे एडमिनिस्ट्रेशन की हर कार्रवाई में रोड़ा अटकाने की कोशिश में लगे रहते हैं।
– सूत्रों के मुताबिक, पहले भी इन्होंने कई बार अफसरों के परिवार को खत्म करने की धमकी तक दी। इसीलिए अफसर इनके आसपास आने से कतराने लगे थे। वे इनके सामने नेम प्लेट हटाकर जाते थे।
इसलिए जेल में आतंकी कर रहे हैं हंगामा
– यहां बंद आतंकी चाहते हैं कि बैरकों की जांच न हो। बैरकों से टीवी हटाने के विरोध में भी इन्होंने भूख हड़ताल का ड्रामा किया।
– अबू फैजल समेत तीन आतंकी अभी भी जिद पर अड़े हैं।
पेशी के दौरान जज को दिखाते थे लात, कैमरे पर थूकते थे
– आतंकियों की पेशी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होती है। पिछली कई पेशी के दौरान इन्होंने कैमरे पर जज को लात दिखाई। कैमरे पर थूका। अबू फैजल ने पेशी के दौरान गालियां भी दी थी।
आतंकियों की बैरक में मिला नक्शा
सेंट्रल जेल से भागे आतंकियों की बैरकों में चले सर्च ऑपरेशन में पेंसिल से सादे कागज पर बनाया गया मैप मिला है। इसमें आतंकियों ने फरारी की पूरी प्लानिंग कर रखी थी।
हर आतंकी पर रोजाना 4500 खर्च
– इन 29 आतंकियों पर सालाना करीब 4.69 करोड़ खर्च हुआ। एक बंदी के खाने पर रोज 57 रुपए खर्च होते हैं।
– इस लिहाज से खाने पर हर साल 29 आतंकियों पर लगभग 6.00 लाख रुपए खर्च हुए।
– रिटायर्ड डीआईजी जेल आरएस विजयवर्गीय के मुताबिक, सिमी आतंकियों पर अलग से कोई राशि खर्च नहीं होती है। लेकिन स्पेशल सेल की सुरक्षा व्यवस्था अलग रहती है।
आतंकियों पर कहां-कहां खर्च
– खाना, दो सेल में 24 घंटे 48 सिक्युरिटी गार्ड, तीन अफसर 8-8 घंटे की ड्यूटी पर, पेशी पर सिक्युरिटी के लिए 36 से ज्यादा पुलिसकर्मी और अफसर, जबकि इलाज और चेकअप पर भी खर्च किए गए।
– इन सभी मदों में हर माह 1 लाख 35 हजार हर सिमी आतंकी पर खर्च आया। इस हिसाब से 4500 रुपए एक आतंकी का डेली खर्च।
– एक साल में एक आतंकी पर खर्च 135000X12= 1620000, 29 आतंकियों पर खर्च 1620000X29= 46980000 (सालाना)
– 7 साल में खर्च 46980000X7 = 328860000 (रुपए में )।

Check Also

बीते तीन दिनों में एक के बाद एक खतरनाक घटनाओं को दिया गया अंजाम।

देश में बढ़ती आपराधिक घटनाओं पर अंकुश नई लग पा रहा है खास तौर पर …