8 गांव कुछ इस तरह से मनाते हैं दीवाली 17 सालों से

ईरोड: जिले के एक पक्षी अभयारण्य के आसपास के आठ गांवों के लोग पिछले 17 वर्षों से बिना पटाखे जलाए दिवाली मनाते हैं क्योंकि उन्हें इसकी आशंका है कि तेज आवाज से प्रवासी पक्षी डर कर भाग जाएंगे.

वर्ष 1996 में 80 हेक्टेयर भूमि में वेल्लोड पक्षी अभयारण्य की स्थापना हुई थी और आसपास के आठ गांवों में करीब 750 परिवार रहते हैं.

आसपास के लोगों ने 17 वर्ष पहले दिवाली नहीं मनाने का फैसला किया था क्योंकि उनको डर था कि तेज आवाज के कारण भयभीत होकर सितंबर से दिसंबर के दौरान आने वाले प्रवासी पक्षी भाग जायेंगे.

Check Also

एक बार फिर अमेरिका चीन के बीच बनी तनाव की स्तिथि

चीन और अमेरिका के बीच एक बार फिर तनाव की स्थिति बनती जा रही है. …