बाराबंकी:दलित किशोरी की रेप के बाद हत्या ,पुलिस पर लापरवाही का आरोप

बाराबंकी।उत्तर प्रदेश में रेप की घटनाएं रुक ही नहीं रही है आए दिन कोई न कोई वारदात सामने आ रही है.चाहें वो हाथरस ,झांसी,उराई हो या बाराबंकी सभी जगहों पर बच्चियों के साथ रेप की वारदात को अन्जाम दिया गया है।बाराबंकी जिले में हुई एक दलित नाबालिग युवती की दुष्कर्म के बाद हत्या किए जाने के बाद मामला काफी तूल पकड़ता दिख रहा है.

 

यह भी पढ़ें:बिहार चुनाव: जिन्नावादी नेता को मिला कांग्रेस का साथ,भाजपा-जदयू में मचा घमासान

 

इस घटना को सुन कर सभी लोग सख्तें में है तो वहीं ग्रामीणों में पुलिस के प्रति लापरवाही बर्तने का भी आरोप लगा हुआ है. पोस्टमोर्टम रिपोर्ट से रेप का खुलासा तो हुआ ही साथ ही पीड़िता के प्राइवेट पार्ट पर चोट के निशान मिले है.जिसके बाद मुकदमे में आईपीसी की धारा 376 को दर्ज किया गया है। पुलिस ने मामले की छानबीन शुरु कर दी है.हद तो तब हो गई जब पुलिस वालो ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के पहले ही पुलिस ने युवती का अंतिम संस्कार करवा दिया गया।

 क्या था पूरा मामला

आपको बता दें कि बुधवार की देर शाम युवती खेत में धान काटने करने  गई थी.वहीं पर बदमाशों ने युवती के हाथ पैर बांध कर उसके साथ दरिंदगी की फिर नृशंस हत्या कर दी.परिजनों का आरोप है कि पुलिस शुरु से ही मामले को ढ़ील दे रही है.इस घटना से इस बात का  संशय भी बना हुआ है ,परिवार के अनुसार बच्ची अभी नाबालिग है तो वहीं पुलिस युवती को बालिग बता रही है।

परिजनों का आरोप है कि पुलिस शुरुआत में मामले को दबाने में लगी रही. लेकिन गुरुवार देर शाम आई पोस्टमार्टम रिपोर्ट में रेप के बाद गला दबा कर हत्या करने की पुष्टि हुई. इस मामले में एक बात और सामने आई है कि माता-पिता जहां पीड़िता को नाबालिग बता रहे हैं तो वहीं पुलिस युवती को बालिग बता रही है.देर रात बाराबंकी जिलाधिकारी डॉ आदर्श सिंह ने बालिका से हुई जघन्य वारदात की जानकारी दी. उन्होंने प्रेस नोट जारी कर 261/20, 302 आईपीसी के दर्ज मुकदमे में 376 बढ़ाने की पुष्टि की और घटना में निष्पक्ष जांच कराने के निर्देश दिए हैं.

 

Check Also

उत्तर प्रदेश में वरुण शुरू करेगे नई राजनीती

वरुण गांधी “भारतीय राजनीति” का वह नाम, जो पहले से ही सुर्खियों में था, लेकिन …