मक्खियों ने शादीशुदा लोगो की जिंदगी में मचाया आतंक

शादी ना होने की बहुत सी वजह हो सकती है. लेकिन अब जिस खबर से हम आपको रूबरू करवाएंगे उसे सुनकर आपके होश उड़ जायेंगे. दरअसल, उत्तर प्रदेश के हरदोई के 10 गांव में मक्खियों की वजह से एक भी शादी नहीं हो पा रही है. कोई भी अपनी लड़की इन गांवों में ब्याहने को तैयार नहीं है. इन मक्खियों का आतंक इतना ज्यादा बढ़ गया है कि यहां की बहुएं भी अब ससुराल छोड़कर मायके चली जा रही हैं. पत्नियों का कहना है कि पति या तो गांव छोड़े या वह घर छोड़ रही हैं।मक्खियों की वजह से इन गांवों में अब कोई नई शादियां नहीं हो रही हैं. गांव वालो ने अपनी समस्या मीडिया को बताई कि गांव में इस साल एक भी शादी नहीं हुई. लड़कों के लिए रिश्ते तो कई आएं, लेकिन सब गांव की स्थिति देखकर वापस लौट गए. मक्खियों की वजह से स्थिति इतनी भयावह है कि कोई भी बाप अपनी बेटी को यहां ब्याहने को तैयार नहीं है. लड़कों के साथ साथ लड़कियों की शादी में भी समस्या आ रही है. लोग इस गांव में अब बारात लाने से भी डर रहे हैं।मक्खियों का आतंक अब गांव की महिलाओं के साथ साथ पुरुषों से भी नहीं झेला जा रहा है. लोगो के लिए अब ये सर दर्द बन गया है इन गांवों में रहने वाले लोग अब मक्खियों से छुटकारा पाने के लिए गांव के बाहर अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गए हैं. सबसे बड़ी बात कि इस धरने में गांव की महिलाएं भी शामिल हैं, जो सुबह अपना चूल्हा चौका करके दोपहर तक धरना स्थल पर बैठ जाती हैं। साल 2014 से पहले यहां सब कुछ ठीक था. लेकिन 2014 में यहां एक कमर्शियल लेयर्स फॉर्म, यानि पोल्ट्री फॉर्म खुला. पोल्ट्री फार्म खुलने के कुछ दिन तक सब कुछ ठीक चल रहा था, लेकिन फिर धीरे-धीरे मक्खियों की आबादी बढ़ने लगी और आज इन गावों में मक्खियों की आबादी पहले के मुकाबले सैकड़ों गुना बढ़ गई है. इस पोल्ट्री फार्म के सबसे नजदीक है बढ़ईनपुरवा गांव, यही वजह है कि मक्खियों से सबसे ज्यादा परेशान भी यही गांव है। मक्खियों का आतंक ऐसे तो सबसे ज्यादा बढ़ईयनपुरवा गांव में है. पिछले 1 साल में इस गांव से 6 बहुएं अपने मायके चली गई हैं. वहीं इस गांव के लड़के लड़कियों की शादी भी नहीं हो रही है. गांव वाले बताते हैं कि इस साल इस गांव में एक भी शादी नहीं हुई है. हालांकि, कुइयां, पट्टी, डही, सलेमपुर, फत्तेपुर, झालपुरवा, नयागांव, देवरिया और एकघरा में रहने वाले लोग भी मक्खियों के आतंक से बेहद परेशान हैं।गांव वालों की तरह मक्खियों से निपटने में यहां का प्रशासन भी लाचार दिख रहा है. मीडिया से अहिरोरी सीएचसी अधीक्षक का कहना है कि मक्खियों से निपटने के लिए गांव में कई बार कैंप लगाए गए उपचार किया गया लेकिन इसके बाद भी उनकी समस्या दूर नहीं हुई. हालांकि, अब तक मक्खियों से फैलने वाली बीमारी ट्रेंड इस गांव में नही मिला है।

Check Also

आखिर क्यों बरसे भाजपा पर खड़गे ?

राहुल गांधी , गांधी परिवार के चौथे नेता के रूप में पठानकोट में जनसभा करने …