गूगल सीईओ सुंदर पिचाई पद्म भूषण से किए गए सम्मानित

गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई पद्म भूषण पुरस्कार से किए गए सम्मानित, कहा-: जहां जाता हूं भारत मेरे साथ होता है।भारत के राजदूत तरणजीत सिंह सिंधू ने अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को में गूगल और अल्फाबेट के सीईओ सुंदर पिचाई को देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों में से एक पद्म भूषण से सम्मानित किया। संधू ने ट्विटर पर कहा कि सैन फ्रांसिस्को में गूगल और अल्फाबेट के सीईओ सुंदर पिचाई को पद्म भूषण सौंपकर खुशी हुई. मदुरै से माउंटेन व्यू तक सुंदर की प्रेरणादायक यात्रा भारत-अमेरिका के बीच आर्थिक और प्रौद्योगिकी संबंधों को मजबूत और भारतीय प्रतिभा की पुष्टि करती है।अमेरिका में भारतीय दूत से प्रतिष्ठित पद्म भूषण पुरस्कार प्राप्त करने के बाद सुंदर पिचाई ने अपने ब्लॉग में कहा कि वह पद्म भूषण देने और उनकी मेजबानी करने के लिए भारतीय राजदूत संधू और को धन्यवाद देना चाहते हैं. इसके लिए वह भारत सरकार और भारत के लोगों के बहुत अभारी हैं और उनके प्रति अपार सम्मान व्यक्त करते हैं. सुदंर पिचाई ने कहा कि भारत उनका एक हिस्सा है. वह जहां भी जाते हैं, इसे अपने साथ ले जाते हैं। उन्होंने अपने ब्लॉग में कहा कि वह सौभाग्यशाली हैं कि एक ऐसे परिवार में बड़े हुए, जिसने सीखा और ज्ञान को अर्जित किया. उन्होंने कहा कि उनके माता-पिता ने यह सुनिश्चित करने के लिए बहुत त्याग किया कि उन्हें (सुंदर पिचाई) अपनी रुचियों का पता लगाने के अवसर मिले। 50 वर्षीय पिचाई ने पुरस्कार स्वीकार करते हुए कहा कि तकनीकी परिवर्तन की तीव्र गति को देखने के लिए वर्षों में कई बार भारत लौटना आश्चर्यजनक रहा है. उन्होंने कहा कि डिजिटल भुगतान से लेकर वॉयस टेक्नॉलोजी तक भारत में किए गए बदलाव दुनिया भर के लोगों को फायदा पहुंचा रहे हैं. उन्होंने कहा वह गूगल और भारत के बीच महान साझेदारी को जारी रखने की आशा करते हैं क्योंकि हम टेक्नॉलोजी के फायदों को ज्यादा लोगों तक पहुंचाने के लिए मिलकर काम करते हैं।सुंदर पिचाई ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के डिजिटल इंडिया को लेकर उनका नजरिया निश्चित रूप से उस प्रगति के लिए एक मील का पत्थर साबित हुआ है और मुझे गर्व है कि गूगल ने दो परिवर्तनकारी दशकों में सरकारों, व्यवसायों और समुदायों के साथ साझेदारी करते हुए भारत में निवेश करना जारी रखा है. हमारे दरवाजे पर आने वाली हर नई तकनीक ने हमारे जीवन को बेहतर बनाया है और उस अनुभव ने मुझे गूगल के रास्ते पर और दुनियाभर में लोगों के जीवन को बेहतर बनाने वाली तकनीक बनाने में मदद करने का मौका दिया।

Check Also

आखिर क्यों बरसे भाजपा पर खड़गे ?

राहुल गांधी , गांधी परिवार के चौथे नेता के रूप में पठानकोट में जनसभा करने …