अपने गार्डन को कैसे रखें हरा भरा , जानियें तरीके

लाइफस्टाइल डेस्क | आज के समय वन संसाधन कितना जरुरी हैं आप जान ही सकते है किसी भी देश का विकास तभी सार्थक माना जा सकता है जब हम वहां मौजूद प्राकृतिक संसाधनों का उचित तरीके से इस्तेमाल करें। बिना प्लानिंग और समझ के किसी काम की शुरुआत तो तब भी संभव है लेकिन बेहतर परिणाम की गुजाइंश बिल्कुल भी नहीं। दुनियाभर में बढ़ते प्रदूषण की समस्या और उससे होती तमाम तरह की बीमारियों के बारे में आए दिन हम अखबारों और टीवी के माध्यम से वाकिफ हो रहे हैं। जिसका असर बच्चों से लेकर बुज़ुर्गों और गर्भवती महिलाओं हर किसी में देखने को मिल रहा है। समय रहते अगर इसे कंट्रोल न किया गया तो यह और भी भयानक रूप ले सकता है।प्रदूषण को करें कंट्रोल

पेड़-पौधों को नेचुरल एयर प्यूरीफायर कहा जाता है जो हवा को शुद्ध करने के साथ ही कई बीमारियां से भी बचाते हैं। ऐसे कई सारे इंडोर प्लांट्स हैं जिनका इस्तेमाल महज घर की खूबसूरती को बढ़ाने के लिए ही नहीं किया जाता, बल्कि अंदर की दूषित हवा को साफ करने के लिए भी किया जाता है।

हवा को शुद्ध बनाने वाले प्लांट्स

तुलसी – तुलसी एक नेचुरल एयर प्यूरिफायर है। यह पौधा 24 में से 20 घंटे ऑक्सीजन छोड़ता है। तुलसी का पौधा कार्बन मोनो ऑक्साइड, कार्बन डाई ऑक्साइड व सल्फर डाईऑक्साइड सोखता है।

रबर प्लांट- ऑफिस के बंद कमरे में अगर आपको शुद्ध वायु और प्रकृति के स्पर्श की जरूरत महसूस होती है तो वहां रखने के लिए रबर प्लांट्स बेस्ट हैं। थोड़ी सी धूप भी उन्हें जीवित रखने के लिए पर्याप्त है। वुडन फर्नीचर द्वारा रिलीज किए जाने वाले हानिकारक ऑर्गेनिक कंपाउंड फॉर्मल्डिहाइड से वातावरण को मुक्त करने की इनकी क्षमता लाजवाब है।

मनी प्लांट- मनी प्लांट एक बेल है। इसकी एक पत्ती का आकार 7 से 10 सेंटीमीटर तक लंबा होता है। यह पौधा अधिकतर घरों में आसानी से मिल जाता है। इसे किसी खाली बोतल में भी उगाया ज सकता है। इस पौधे में वायु में मौज़ूद कार्बन डाई ऑक्साइड को ग्रहण करने की क्षमता होती है और यह ऑक्सीजन बाहर निकालता है। मनी प्लांट हवा में सीओ2 कम कर हमारे सांस लेने के लिए शुद्ध ऑक्सीजन देता है।

Check Also

रूम हीटर के नुकसान

पूरे उत्तर भारत में सर्दी का आलम बना हुआ है। ऐसे में कई लोग अलाव …