महाराष्ट्र: मंदिर नहीं खोले जानें पर बीजेपी कार्यकर्ताओं का विरोध,राज्यपाल ने लिखी सीएम को चिट्ठी…

महाराष्ट्र : देश में वैश्विक महामारी का कहर जोरो पर है तो वहीं महाराष्ट्र में कोरोना से संक्रमितों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है.सभी जगहों पर सरकार के आदेश के बाद से मंदिर, रेस्ट्रोरेनट ,माॉल को खोल दिया गया है तो वहीं महाराष्ट्र में अभी तक मंदिरों को नहीं खोला गया है,जिसके विरोध में बीजेपी कार्यकर्ता के सदस्यों ने सरकार के विरोध में प्रदर्शन शुरु कर दिया है। आंदोलनकारियों का कहना है कि जब रेस्टोरेंट खोल दिए गए हैं तो मंदिर को खोलने में क्या दिक्कत हो रही है सरकार को।

राज्यपाल ने इस बात को संज्ञान में लेते हुए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को चिट्ठी लिख कर उन्होंने कहा, ”1 जून को आपने अपने टेलीविजन संबोधन में कहा था कि जून महीने के पहले हफ्ते से राज्य में ‘मिशन बिगिन अगेन’ ‘पुनश्च हरिओम’ शुरू किया जा रहा है.”

आगे लिखा, ”मैं ये बताना चाहूंगा कि दिल्ली में 8 जून से पूजा स्थल खोल दिए गए हैं और पूरे देश में जून के अंत से धार्मिक स्थलों को खोल दिया गया है. देश के इन हिस्सों से कोविड-19 के फैलने की कोई रिपोर्ट नहीं आई है. मैं अनुरोध करता हूं कि आप धार्मिक स्थलों को कोविड-19 की गाइडलाइंस के मुताबिक खोलने की इजाजत दें.”

यह भी पढ़ें:आईपीएल: दबाव के साथ मैदान में उतरेंगी चेन्नई सुपर किंग, एसआऱएच से होगा कड़ा मुकाबला

 सीएम ने कहा कि उन्हें उद्धव ठाकरे का पाठ ना पढ़ाया जाए.मुख्यमंत्री ने लिखा, ”जैसा कि अचानक से लॉकडाउन को लागू करना सही नहीं था, एक बार में इसे पूरी तरह से रद्द करना भी अच्छी बात नहीं होगी. और हां, मैं कोई ऐसा व्यक्ति हूं जो हिंदुत्व का अनुसरण करता है, मेरे हिंदुत्व को आपसे सत्यापन की आवश्यकता नहीं है.’

Check Also

गहने बेचने पर पति ने पत्नी को मौत के घाट उतारा

महाराष्ट्र के पालघर जिले में मां की तेरहवीं के लिए कान की बाली देने से …