उच्च शिखर पर लहराया भारत का झंडा, अब मदद मांगने को मजबूर 

गोरखपुर। “जहां चाह होती है, वहां राह होती है”, इस कथन को साकार करते हुए गोरखपुर जिले के गौरसैरा गांव के निवासी युवा उमा सिंह ने ग्रामीण पृष्ठभूमि से निकलकर पर्वतों की उच्च शिखरों पर भारत का झंडा लहराने के स्वप्न को साकार करने के लिए संघर्ष करना शुरू किया।

उमा सिंह ने बताया कि बहुत कम ही उम्र में माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने का सपना उनकी आंखों में तैर गया था और इसी के लिए उन्होंने किसी तरह से धन एकत्रित करके “स्वामी विवेकानंद माउंटेनियरिंग इंस्टिट्यूट” में दाखिला लिया और बेसिक रॉक क्लाइमिंग का कोर्स ए ग्रेड में पूरा किया।

इसके बाद अटल बिहारी माउंटेनियरिंग इंस्टीट्यूट हिमाचल प्रदेश में ए ग्रेड में पर्वतारोहण का प्रशिक्षण लिया और 15,700 फुट ऊंचाई के पर्वत पर भारत का झंडा लहराया। इन्होंने कई मुश्किल रास्तों को भी खोजा और चेतक कमांडो को प्रशिक्षण तक दे चुके हैं।

अपनी प्रतिभा को आगे बढ़ाने के लिए वर्तमान समय में यह साइकिल से पूरे भारतवर्ष के समस्त राज्यों की राजधानियों का दौरा लगभग 90 से 100 दिन में करेंगे। इसकी दूरी लगभग 12,000 किलोमीटर होगी जो एक विश्व रिकॉर्ड होगा।

परंतु धन के अभाव में इस युवा की प्रतिभा दम तोड़ रही है तथा वह युवा जो आने वाले समय में भारत वर्ष के लिए नए कीर्तिमान स्थापित कर सकता है। संसाधनों के अभाव के कारण उसका भविष्य खतरे में है। इस प्रतिभाशाली नौजवान के पिता पेशे से किसान हैं, इसलिए अपने सपनों को साकार करने के लिए इन्होंने लोगों से मदद की अपील भी की है। कुछ लोग मदद के लिए आगे आने भी लगे हैं।

जिला संवाददाता- कृष्ण प्रताप मिश्र

Check Also

सोशल मीडिया पर हुआ मोटिवेट कर देने वाला वीडियो वायरल

सोशल मीडिया पर अक्सर अजीबो गरीब वीडियो देखने को मिल जाते है लेकिन इस बार …