प्रधानमंत्री मोदी ने दिया युवाओं को नौकरी पाने का नया ‘गुरु मंत्र’

लखनऊ : योग को विश्व में रोजगार का नया बाजार करार देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को लखनऊ में कहा कि योग के कारण पूरी दुनिया भारत से जुड़ने लगी है. मोदी ने यहां के रमाबाई अंबेडकर मैदान पर तीसरे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में करीब 50 हजार लोगों के साथ योग करने से पहले अपने संबोधन में कहा, विश्व के अनेक देश, जो न हमारी भाषा जानते हैं, न हमारी परम्परा जानते हैं, न हमारी संस्कृति से परिचित हैं, लेकिन योग के कारण पूरा विश्व भारत के साथ जुड़ने लगा है.

दुनिया में भारत के लोगों को प्राथमिकता
प्रधानमंत्री ने कहा योग जो शरीर, मन, बुद्धि को जोड़ता है, वो योग आज दुनिया के सभी मुल्‍कों के साथ जोड़ने में अहम भूमिका अदा कर रहा है. उन्होंने कहा विश्व में एक नया रोजगार बाजार योग से तैयार हो रहा है और भारत के लोगों की प्राथमिकता सारी दुनिया में सबसे पहले रहती है. योग के कारण ही अनेक नए नए योग संस्थान आज विकसित हुए हैं. पिछले तीन वर्ष में बड़ी संख्या में योग शिक्षकों की मांग बढ़ी है. योग प्रशिक्षण संस्थानों में भी नौजवान योग को एक पेशे के रूप में स्वीकार करते हुए अपने-आप को तैयार कर रहे हैं.

योग जीवन में नमक की तरह
प्रधानमंत्री ने जीवन में योग के महत्व की तुलना ‘नमक’ से करते हुए कहा कि जैसे जीवन में नमक का महत्व है, वैसा ही हम योग का स्थान बना सकते हैं. पूरी दुनिया को अपने साथ जोड़ने में बड़ी भूमिका अदा कर रहे योग के जरिये विश्व को मानवीय विचारों के संकटों से बचाया जा सकता है. जीवन में नमक ना हो तो जीवन नहीं चलता. जैसे जीवन में नमक का सार है, वैसा ही योग का स्थान हम बना सकते हैं.
घंटों योग करने की जरूरत नहीं
उन्होंने कहा कि हमें घंटों योग करने की जरूरत नहीं है. बस 50-60 मिनट योग करने से स्वस्थ शरीर, स्वस्थ मन, स्वस्थ बुद्धि प्राप्त होती है. अगर सवा सौ करोड़ देशवासी इस स्वास्थ्य को प्राप्त कर लें तो दुनिया के सामने जो मानवीय विचारों के संकट पैदा होते हैं, उनसे भी हम मानव जाति की रक्षा कर सकते हैं. आज योग हर किसी के जीवन का हिस्सा बन रहा है. बारिश के खलल के बावजूद लोगों की उमड़ी भीड़ को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि अगर बारिश हो जाए तो योग मैट या योग दरी का इस्तेमाल कैसे हो सकता है, यह भी लखनऊवासियों ने दिखा दिया.

योग जीवन की एक कला : योगी
प्रधानमंत्री ने तीसरे अंतरराष्‍ट्रीय योग दिवस पर योग प्रेमियों को बधाई देते हुए कहा कि विश्व के सभी देश जिस उमंग और उत्साह के साथ योग से जुड़े हैं, मैं इसके लिये उन्हें बधाई देता हूं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस अवसर पर कहा कि योग जीवन की एक कला है. यह ऋषि प्रसाद है. इसे अंतरराष्‍ट्रीय मान्यता प्रदान करने के लिये प्रधानमंत्री के प्रति कृतज्ञता जाहिर करनी चाहिए. दुनिया के 200 से अधिक देश भारत की इस प्राचीन विधा के साथ झूमते दिखायी दे रहे हैं.
संबोधन के बाद मोदी ने युवाओं के बीच पहुंचकर करीब 25 मिनट तक योगाभ्‍यास किया. इस मौके पर राज्यपाल राम नाईक और उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने भी योगाभ्‍यास में हिस्सा लिया. योगाभ्‍यास के के बाद प्रधानमंत्री नई दिल्ली रवाना हो गये.

Check Also

मथुरा के प्रकाश चंद्र अग्रवाल आखिर क्यों बैठे धरने पर

मथुरा के प्रकाश चंद्र अग्रवाल ने अपने एक दिन के मुख्यमंत्री बनने पर कार्यकाल के …