योगीराज में संस्थागत उत्पीड़न झेल रहा दलित-पिछड़ा समाज: कांग्रेस

लखनऊ। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने कांग्रेस अनुसूचित जाति के चेयरमैन अलोक प्रसाद की अलोकतांत्रिक गिरफ़्तारी और प्रदेश की योगी सरकार की चौतरफा फेल होने से उपजी हताशा के चलते उत्पीड़न पर आवाज़ उठाने वाली कांग्रेसजन की आवाज़ को हर संभव तरीके से दबाने से कृत्य की कड़ी आलोचना करते हुए योगी सरकार को दलित-पिछड़ा विरोधी करार दिया।

यह भी पढ़ें: गाजियाबाद: पहले दोस्त की ढाई साल की बच्ची का अपहरण, फिर…

यूपी कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने आज मुख्यालय में आहूत एक प्रेस कांफ्रेंस में मौजूदा योगी सरकार पर तीखा हमला बोलते हुए योगी सरकार को दलित-पिछड़ा विरोधी मानसिकता वाली सरकार करार दिया। उन्‍होंने कहा कि आज कांग्रेस ही हर मोर्चे पर फेल योगी सरकार की नाकामियों और उत्पीड़न पर आवाज़ बुलंद कर रही है, जिसके चलते राजनैतिक द्वेष और वैमनस्यतापूर्ण कार्यवाही करते हुए योगी सरकार ने कांग्रेस अनुसूचित जाति विभाग के चेयरमैन अलोक प्रसाद को फर्जी मुक़दमे लादकर जेल में डालने का कम किया है।

योगी सरकार लोगों को न्याय दिलाने में पूरी तरह नाकाम

प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने आगे कहा कि आए दिन लोग सत्ता प्रतिष्ठान लोक भवन के आगे आत्मदाह को अभिशप्त है क्योंकि योगी सरकार लोगों को न्याय दिलाने में पूरी तरह नाकाम साबित हुई है। उन्होंने योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आज के समय में दलित-पिछड़ा उत्पीड़न को योगी सरकार का प्रत्यक्ष संस्थागत वरदहस्त प्राप्त है। चेयरमैन अलोक प्रसाद की गिरफ़्तारी अलोकतांत्रिक ही नहीं वरन दलित-पिछड़े समाज के उत्पीड़न की सोची समझी रणनीत का हिस्सा है।

वहीं, वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता व पूर्व मंत्री आर के चौधरी ने कहा कि उत्तर प्रदेश विधान भवन के सामने इन दिनों आत्मदाह करने वालों की भीड़ लगी हुई है। रोज घटनाएं बढ़ रही हैं। सरकार और पुलिस द्वारा जनता को न्याय नहीं मिल पा रहा है। सरकार अपनी नाकामी छुपाने में लगी रहती है और निर्दोष लोगों को मामलों में फंसा रही है। उन्होंने आगे कहा कि सरकार न्याय मांगने वालो के बजाए अन्याय करने वालों के साथ खड़ी होती है। मृतक अंजना तिवारी के आत्मदाह के बाद भी विधान भवन के सामने आत्मदाह की दो घटनाएं सामने आई हैं, जिससे स्पष्ट है कि मौजूदा सरकार लोगों को न्याय दिलाने में पूरी तरह फेल साबित हुई है।

अलोक प्रसाद को झूठे मुकदमे में फंसाया जा रहा

आर के चौधरी ने आगे कहा कि कांग्रेस अनुसूचित जाति विभाग चेयरमैन अलोक प्रसाद एक प्रतिष्ठित परिवार से हैं। उनके पिता सुखदेव प्रसाद जी राजस्थान के गवर्नर रह चुके हैं। ऐसे में एक सम्मानित परिवार का सदस्य ऐसी घटना में लिप्त नहीं हो सकता है। उन्होंने आगे कहा कि मामला सिर्फ अलोक प्रसाद जी का ही नहीं है, पिछले दिनों लखनऊ में हुए आत्मदाह के मामले में कांग्रेस के प्रवक्ता और जवाहरलाल नेहरु विवि के रिसर्च स्कॉलर रहे अनूप पटेल को भी झूठे मुक़दमे में फंसा कर जेल में डाल रहा है। पूर्व में कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज़ आलम को भी फर्जी मुक़दमे में फंसा कर जेल भेजा था।

प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए उन्होंने आगे कहा कि मौजूदा सरकार दलित-पिछड़ा विरोधी है,पर दलित-पिछड़ा समाज न झुका है न झुकेगा, लड़ा है-जमकर लड़ेगा। आलोक प्रसाद की कायरतापूर्ण गिरफ्तारी के खिलाफ समाज सड़क से लेकर सदन तक सरकार को घेरेगा। पत्रकार वार्ता में कांग्रेस के पूर्व विधायक गयादीन अनुरागी व प्रवक्ता अशोक सिंह भी उपस्थित रहे।

Check Also

बढ़ती ठंड के कारण बढ़ाई गई स्कूलों की छुट्टी

बढ़ती ठंड के कारण देश भर के विभिन्न हिस्सों में कल यानी 15 जनवरी तक …