UP: दुष्कर्म पीडि़ता ने की खुदकुशी,पिता को इंसाफ की दरकार

चित्रकूट ।सदर जिले में हुई नाबालिग  लड़की की सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता ने खुदकुशी कर ली है,तो पुलिस ने भी किसी प्रकार की अनहोनी न हो इसके लिए पूरे गांव को छावनी में तब्दील कर दिया है. पूरे गांव में तीन थानों की पुलिस फोर्स की  तैनाती  की गई है.पीडि़ता के द्वारा आत्महत्या किए जानें से माता-पिता बेहद सदमें में है,परिवारजनों का कहना हैं किआरोपी युवकों की गिरफ्तारी हो,उन्हें कड़ी से कड़ी सजा दी जानी चाहिए.पिता का कहना है कि  हमें सिर्फ इंसाफ चाहिए.

 

पिता का कहना है कि इस जघन्या घटना के बाद से मानसिक रुप से परेशान रहने लगी थी.घटना के बाद गांव पहुंचे चित्रकूटधाम मंडल के आईजी सत्यनारायण, जिलाधिकारी शेषमणि पांडेय और एएसपी पीसी पांडेय ने पीड़ित परिवारजनों से बात कर न्याय दिलाने का विश्वास दिलाया है.पिता ने कहा कि मेरी बेटी इस साल कक्षा आठ की परीक्षा पास कर नौवीं कक्षा में दाखिला लिया था। बेटी के आत्महत्या करने से हमारा परिवार बहुत ही बुरी तरह से टूट चुका है.परिवार में दो भाई और पांच बहनों में सबसे छोटी थी।

 

सदर कोतवाली प्रभारी जयशंकर सिंह फोर्स संग किशोरी के घर के पास मौजूद थे। जिस तरह से गांव में पुलिस बल अलर्ट हुआ और पोस्टमार्टम के बाद अंतिम संस्कार को पुलिस वाहन में शव लेकर भारी फोर्स गांव पहुंचा उसने सभी के मन में  हाथरस कांड की याद ताजा करा दी।परिजनों ने बताया है कि, बुधवार को अन्य परिजनों के पहुंचने के बाद शव का गांव में ही अंतिम संस्कार किया जाएगा। पुलिस ने शव को घर के बाहर रखवा दिया है। कोतवाल ने बताया कि वीडियो रिकॉर्डिंग भी कराई जा रही, ताकि किसी तरह का पक्षपात का आरोप न लग सके।

यह भी पढ़े :तेलंगाना में भारी बारिश का कहर, दिल दहला देगा तबाही का मंजर

परिवारजन को 50 लाख मुआवजा दिए जानें की मांग

घटना की जानकारी होने पर पीड़ित परिवार से मिलकर सपा जिलाध्यक्ष अनुज यादव, पूर्व विधायक वीर सिंह पटेल ने ढांढस बंधाया और कोतवाल जयशंकर सिंह से पूरी जानकारी ली। सपाइयों ने परिजनों से कहा कि वह न्याय दिलाने के लिए हर संभव मदद करेंगे। यदि शीघ्र आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई तो पार्टी आंदोलन को विवश होगी। सपाइयों ने प्रदेश सरकार से पीड़ित परिवार को 50 लाख रुपये का मुआवजा दिलाने की मांग की है।

 

 

Check Also

उत्तर प्रदेश में वरुण शुरू करेगे नई राजनीती

वरुण गांधी “भारतीय राजनीति” का वह नाम, जो पहले से ही सुर्खियों में था, लेकिन …